उझानी:  दो सटोरिये फिर पकड़े गये/सट्टा किंग पर हाथ डालने से कतरा रही पुलिस/शहर में चर्चाओं का बाजार गर्म। (अंजार अहमद की रिपोर्ट)

बदायूँ/उझानी। आईजी जोन के सट्टा विरोधी अभियान और योगी सरकार के गुंडामुक्त शासन के फरमान का भले ही जिले भर में असर पड़ा हो और गुंडे व् सटोरिये भूमिगत हो गए हों लेकिन कस्बा उझानी में सटोरिये आज भी बेख़ौफ़ इस अवैध धंधे को बेरोकटोक संचालित किये हुए हैं जिसका जीता जागता उदाहरण है कल दो सटोरियों की गिरफ्तारी होना यही नहीं सटोरियों के पास से पुलिस ने नकदी व् सट्टे की पर्चियां भी बरामद कीं जो शहर में हो रहे सट्टे की खुली गवाही दे रही हैं l

उझानी पुलिस ने बीती रात मुखबिर की सुचना पर मोहल्ला नझियाई में छापा मारकर रिंकू पुत्र राज कुमार व् चरन सिंह को सट्टा लेते हुए गिरफ्तार किया था और उनके पास से साढ़े सोलह हज़ार रूपये नकदी व् सट्टे की पर्चियां बरामद कर उन्हें आज जेल भेज दिया l विगत दिनों भी पुलिस ने दो सटोरिये गिरफ्तार किये थे जो उझानी पुलिस का एक सराहनीय क़दम कहा जा सकता है l लेकिन सवाल यह उठता है कि आखिर उझानी पुलिस सट्टा किंग पर इतनी मेहरबान क्यों है जो अभी तक उसे गिरफ्तार करने से बच रही है जिसकी नगर में व्यापक चर्चा है l
विश्वसनीय सूत्रों का तो यहाँ तक कहना है कि नगर के सभी मोहल्लों व् गली कूँचों में सट्टे का अवैध धंधा बेरोकटोक जारी है जिसे रोक पाना आसान नही है l
पुलिस की आँखों में धूल झोंक इन सटोरियों ने धंधे का नया फार्मूला ईज़ाद कर अब मोबाइल से सट्टा लेना शुरू कर दिया है जिसे पकड़ पाना बेहद मुश्किल है
सवाल यह भी उठता है कि जब जनता को सट्टे की जानकारी है तो पुलिस को क्यों नहीं ?
और इस अवैध धंधे पर आखिर पूर्णतया अंकुश क्यों नहीं लग पा रहा यह सवाल सभी के ज़ेहन में कौंध रहा है लेकिन पुलिस की इस ढीलाई की सर्वत्र निंदा हो रही है l
पुलिस की सटोरिये ने ही खोली थी पोल

कस्वा इंचार्ज शिवेंद्र सिंह भदोरिया ने विगत दिनों मोहल्ला पठान टोला व् मानकपुर रोड से जिन सटोरियों को गिरफ्तार किया था उन्होंने जब अपनी जुबान खोली तो सब भौंचक्के रह गए उन्होंने उझानी कोतवाली में तैनात एक दरोगा पर हर माह 40 हज़ार रूपये वसूलने का आरोप लगाया था l सटोरिये ने कहा था कि हमसे हर महीने थाने में तैनात एक सिपाही 40 हज़ार रूपये ले जाता था और दरोगा को देता था फिर हमारी गिरफ्तारी क्यों ?
सटोरिये के इस सनसनी खेज आरोप पर सभी दंग रह गए और दांतों तले ऊँगली दबाते दिखे जिसे लेकर पुलिस की खासी फजीहत हो रही है l लेकिन सटोरिये के इस आरोप पर पुलिस की चुप्पी अभी भी बनी हुई है l
मज़ेदार बात तो यह है कि आखिर बेख़ौफ़ हो रहे इस अवैध धंधे के पीछे भले ही पुलिस के हाथ होने का मामला उजागर हुआ हो और वायरल वीडियो भी गवाही दे रहा हो लेकिन अभी तक सट्टा किंग की गिरफ्तारी न होना बड़ा सवाल है जिसे लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है और नगर में इस बात की भी चर्चा है कि पुलिस सट्टे के मामले में केवल औपचारिकता निभा रही है जबकि नगर में सट्टे का कारोबार बेरोकटोक अभी भी जारी है जो पुलिस के सट्टा विरोधी अभियान की पोल खोल रहा है l

Leave a Reply

Your email address will not be published.