डीएम ने एचपीसीएल का किया निरीक्षण

बदायूँ/उत्तर प्रदेश
बदायूँ : जिलाधिकारी मनोज कुमार ने हिंदुस्तान पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड के ग्राम सैंजनी, तहसील दातागंज स्थित निर्माणाधीन बायोगैस सयंत्र का निरीक्षण किया एवं निर्माण प्रगति की समीक्षा की। यह संयंत्र प्रतिदिन 100 मैट्रिक टन पराली का उपयोग कर 14 मैट्रिक टन बायोगैस एवं जैविक खाद का उत्पादन की क्षमता रखती है।

कम्पनी के प्रतिनिधि ने डीएम को अवगत कराया कि निर्माण कार्य दिसंबर 2022 तक पूरा होने एवं जनवरी में ट्रायल लिए जाने की संभावना है। बदायूँ, शाहजहांपुर धान उत्पादन के क्षेत्र होने के बावजूद भी पराली की अनुपलब्धता एक बड़ी समस्या के रूप में सामने आई है। जिलाधिकारी के संज्ञान में लाया गया कि पराली की आपूर्ति संबंधित प्रक्रिया मई 2021 से चालू की गई है और इससे जुड़ी चुनौतियों के समाधान के लिये जिला प्रशासन के सहयोग की आवश्यकता है।

पराली 220 प्रति कुंतल खरीद की जाती है। इससे सीएनजी गैस बनती है। जिलाधिकारी ने इस बात का संज्ञान लेते हुए त्वरित कार्यवाही के रूप में एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाने का निर्णय लिया, जिसमे सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों को बुलाया जाएगा।

उत्तर प्रदेश सरकार की बायो फ्यूल नीति 2022 के तहत इन परियोजनाओं को बढ़ावा देने हेतु जिलाधिकारी ने कंपनी की 36000 टन पराली की वार्षिक आवश्यकता को पूरा करने के लिए एवं परियोजना से उत्पादित जैविक खाद के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिये, आवश्यक प्रशासनिक कदम उठाने का आश्वासन दिया।

इससे पूर्व डीएम ने सैंजनी में ही निर्माणाधीन महिला पीएसी बटालियन का भी निरीक्षण किया। यहां डीएम ने प्रोजेक्ट मॉडल को देखा। उन्होंने कार्यदाई संस्था के अधिशासी अभियंताओं को निर्देश दिए कि गुणवत्ता एवं मानको का विशेष ध्यान रखते हुए निर्माण कार्य समय से पूर्ण किया जाए। टीम द्वारा गुणवत्ता एवं मानक की जांच समय से नियमित रूप से होती रहे।

चीफ रिपोर्टर मुकेश मिश्रा