डीएम ने हरी झण्डी दिखाकर रैली को किया रवाना, महिलाओं को किया जा रहा है जागरूक

बदायूँ/उत्तर प्रदेश
बदायूँ : लिंग आधारित हिंसा के विरुद्ध चल रहे अभियान के अंतर्गत उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के द्वारा ब्लॉक स्तरीय एक माह का जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। यह अभियान 25 नवंबर से चालू है, जो 23 दिसंबर तक चलाया जायेगा, जिसमें महिलाओं के साथ होने वाली लिंग हिंसा के बारे में विस्तृत से जानकारी दी जा रही है। अभियान का मकसद गांव गांव तक चलाकर महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा को रोकना है।

गुरुवार को जिलाधिकारी मनोज कुमार ने मुख्य विकास अधिकारी केशव कुमार एवं अपर जिलाधिकारी, पीडी डीआरडीए, जिला विद्यालय निरीक्षक, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, उपायुक्त (स्वतः रोजगार) रामसागर यादव के साथ स्कूली बच्चों एवं महिलाओं की जागरुकता रैली को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। रैली का उद्देश्य घरेलू हिंसा को रोकने, लिंगभेद के प्रति जागरूकता का संचार कराना था। रैली कलेक्ट्रेट से प्रारम्भ होकर पुलिस लाइन चौराहा, ओवर ब्रिज से होकर डायट सेन्टर ऑडिटोरियम बदायूँ पर पहुंची। ऑडिटोरियम में गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी में जिला प्रोवेशन अधिकारी द्वारा विभाग द्वारा चलाई जा रही महिलाओं एवं बालिकाओं के संरक्षण हेतु विभिन्न योजनाओं के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी एवं पुलिस विभाग द्वारा घरेलू हिंसा एवं लिंगभेद के प्रति कानूनी प्रावधान की जानकारी दी गयी। उक्त गोष्ठी में समूह से जुड़ी महिलाओं के द्वारा बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं विषय पर गीत गायन किया गया। समूह की महिलाओं द्वारा अपने अनुभव को भी साझा किया गया।

कार्यक्रम पूरे प्रदेश में एक साथ चल रहा है। अभियान के अंतर्गत ग्रामीण आजीविका मिशन की महिलाओं की ओर से गांवों में रैलियां और गोष्ठियों का आयोजन कर अन्य महिलाओं को जागरूक किया जा रहा है। यदि महिलाओं पर अब कोई किसी भी हिंसा होगी, तो वे सहन नहीं करेंगी। बल्कि उसका विरोध कर हिंसा को रोकने का काम करेंगी। कार्यक्रम को सार्थक बनाने के लिए ब्लॉक के अधिकारियों एवं मिशन में कार्यरत ब्लॉक मिशन मैनेजर, समूह सखी आदि का भी सहयोग लिया जा रहा है। जनपद में कार्यक्रम की शुरुआत जिला मुख्यालय से की गई है। महिला हिंसा को रोकने के लिए सरकार की ओर से जारी कई हेल्प नंबरों के बारे में जानकारी दी जा रही है।

चीफ रिपोर्टर मुकेश मिश्रा