नदी में उफान कम नहीं, तोफीनगला में सड़क तक पहुंचा पानी

बदायूँ/उत्तर प्रदेश
बदायूँ : गंगा नदी में उफान कम होने की बजाय लगातार बढ़ता जा रहा है। गंगा नदी के जलस्तर में 13 सेंटीमीटर की वृद्धि की गई है। वर्तमान में नदी खतरे के निशान से 65 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है। ऐसे में उसहैत एवं सहसवान के 24 गांव पूरी तरह से बाढ़ से प्रभावित हो गए हैं।
पहाड़ों पर बारिश के बाद डैम फुल हैं। हरिद्वार, नरौरा, बिजनौर डैम से लगातार गंगा नदी में बढ़ाकर पानी डिस्चार्ज किया जा रहा है। यही वजह है कि पांच दिन से गंगा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। बुधवार के लिए गंगा नदी में कुछ ज्यादा ही उफान देखने को मिल रहा है। ऐसे में सहसवान के खागी नगला, भमोलिया एवं तौफी नगला पूरी तरह से बाढ़ के पानी की चपेट में है। तौफी नगला में पुल के पास बनी सड़क के ऊपर से पानी बह रहा है।

इधर, उसहैत क्षेत्र के प्रेमी नगला, जटा, कोनिका नगला में भी बाढ़ के हालात बने हुए हैं। ग्रामीणों का कहना है कि अभी तक कोई भी अधिकारी बाढ़ पीड़ितों को राहत देने नहीं पहुंचा है। इसी प्रकार से जल वृद्धि हुई तो स्थिति भयावह हो जाएगी। बाढ़ खंड के अधिकारी बांधों की निगरानी में लगे हुए हैं। कई स्थानों पर बांध क्षतिग्रस्त होने का खतरा है। बाढ़ खंड के एक्सईएन ने बताया कि फिलहाल जल वृद्धि का सिलसिला जारी है। एक-दो दिन में गंगा का जलस्तर कम होना शुरू हो जाएगा।

चीफ रिपोर्टर मुकेश मिश्रा