बदायूँ: आतिशबाजी चलाते वक्त सावधानियां बरतें: डीएम

बदायूँ: दीपावली रोशनी और उल्लास का पर्व है। सजग और सावधान रहकर इस पर्व को और खुशनुमा बना सकते हैं। इसलिए आतिशबाजी चलाते वक्त सावधानियां बरतें। क्योंकि जरा सी लापरवाही भारी पड़ सकती है, खासतौर से बच्चों के लिए, तो ऐसे में अभिभावक बेहद सतर्कता बरतें।
शुक्रवार को जिलाधिकारी कुमार प्रशान्त एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा ने पुलिस बल के साथ शहर के लावेला चैक से गोपी चैक होते हुए मथुरिया चैक, जामा मस्जिद, मीरा जी की चैकी, पथिक चैक, काली सड़क, लालपुल आदि स्थानों पर आगामी त्योहारों को दृष्टिगत रखते हुए रूटमार्च किया, साथ ही लोगों से त्योहारों को अमन और शान्ति से अपने घर में ही मनाने की अपील की। उन्होंने पुलिस को निर्देश दिए कि कोरोना काल चल रहा है। बाजारों में भीड़ न होने पाए। शारीरिक दूरी का खास ख्याल रखा जाए। पटाखा दुकानों के लिए ऐसे स्थान का चयन किया गया है जो आवासीय बस्ती से दूर हो एवं सुरक्षित हों। चिन्हित स्थल पर साफ-सफाई, लाइट आदि की व्यवस्था रहेगी। पटाखा विक्रय स्थल पर फायर बिग्रेड, पानी के टैंकर की उपलब्धता के लिए कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। अभिभावक अपनी निगरानी में ही अतिशबाजी का प्रयोग कराएं। अत्यधिक आवाज वाले पटाखों का विक्रय प्रतिबंधित रहेगा।
उन्होंने कहा कि बदायूँ जनपद अदीबो, साहित्यकारों, शायरों का शहर रहा है, छोटे-बड़े सरकार का यहां आस्ताना है। बदायूँ को हमेशा से ही एकता एवं सदभाव के लिए पहचाना जाता है। इसकी मुख्य वजह यहां की जनता है। ईश्वर की दयादृष्टि रही तो इस कठिन दौर को जल्दी ही पार कर जाएंगे। केस धीरे-धीरे कम हो रहे हैं। लेकिन दूसरे देशों के अनुभवों को देखते हैं कि वहां एक बार केसिस कम हुए लेकिन फिर बाद में बढ़ना शुरू हो गए। इसके दृष्टिगत दिसम्बर और जनवरी का महीना काफी टिपिकल रहेगा। कोरोना ठण्ड के दिनों में अधिक प्रभाव डालती है। ठण्डे देशों में इसका काफी प्रभाव देखा गया है। इसके लिए विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है। गाइडलाइन का पालन करते रहें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें, मास्क लगाए, सैनिटाइजर का प्रयोग करें, जिससे इस बीमारी को दूर रखा जा सके। 12 दिनांें में इस बीमारी का वायरस अपने आप समाप्त हो जाता है। हमारे जनपद से 92 साल के बुजुर्ग भी कोरोना से ठीक होकर अपने घर गए हैं। इसलिए इससे घबराने की नहीं बल्कि सावधान रहने की जरूरत है। त्योहारों को अपने-अपने घरों में ही मनाएं, क्योंकि खतरा अभी टला नहीं है। पुलिस और प्रशासन का सहयोग करें। यातायात व्यवस्था को बनाए रखने के लिए आॅटो रिक्शा स्टैण्ड, वेण्डर जोन को व्यवस्थित कर चलवाए जाएंगे। व्यवस्था हानेे पर बड़े वाहनों का रूट भी डायवर्ट कर दिया जाएगा। कहीं भी वाहन पार्किंग के नाम पर अवैध वसूली होने पर यदि वसूली का प्रकरण सामने आता है तो ऐसे लोगों के विरुद्ध कार्यवाही कर जेल भेजा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.