बदायूँ: कछला गंगाघाट से लाकर हजारो की संख्या में शिवभक्तो ने भोले को प्रसन्न करने के लिए ब्रह्म मुहूर्त में किया जलाभिषेक।

बदायूँ:  सावन के पहले सोमवार पर भोले को प्रसन्न करने के लिए ब्रह्म मुहूर्त में जलाभिषेक किया गया। जयकारों से पूरा वातावरण गुंजायमान हो उठा। मंदिरों को फूलों से सजाया गया। श्रद्धालुओं के लिए पूजा की सामग्री की दुकानें लगाई गईं। तड़के से ही श्रद्धालुओं ने लाइनों में लगभग भगवान भोले नाथ के दर्शन किए। शिव परिवार का पूजन गंगाजल, दूध, शहद, बेलपत्र आदि से किया गया। इस दौरान कांवड़ चढ़ाने की भी विशेष व्यवस्था रही।
आप को बता दे पुजारी कांवड़ के गंगाजल से विधि विधान से पूजा-पाठ करवाते हैं। रुद्राभिषेक भी करवाया गया।  सुबह चार बजे से रात को दस बजे तक मंदिर में पूजा-पाठ किया जाएगा। सुबह साढ़े छह बजे और शाम सात बजे भोले बाबा की बड़ी आरती की जाएगी। सुरक्षा के लिए पुलिसकर्मी भी मौजूद रहते हैं।
कांवड़ियों के जत्थों से रौनक
रविवार को अन्य जनपदों में जाने वाले कांवड़ियों से कांठ रोड और दिल्ली रोड पर रौनक रही। भगवा रंग की वेशभूषा में सजे भक्त रंग-बिरंगी कांवड़, पैरों में बंधे घुंघरू, जुबान पर भोले के जयकारों के साथ कांवड़िए अपने गंतव्य को जा रहे थे। उनके साथ डीजे पर भोले बाबा के सुरीले भजनों से राहगीर भी आनंदित होते रहे। जत्थे के ट्रक के आगे बाइक पर चलकर रहे साथियों ने रास्ता खाली करवाया। मीलों दूर से जल लेकर आने के बावजूद उनके चेहरे पर थकान नजर नहीं आ रही थी। बीच-बीच में वह भजनों पर थिरकते भी रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.