बदायूँ: कैबिनेट मंत्री ने दिव्यांगों को वितरित किए 350 ट्राई साइकिल, 4 व्हील चेयर, 45 जोड़ी वैशाखी एवं 17 श्रवण यंत्र

बदायूँ : शून्य से 5 वर्ष तक के दिव्यांग बच्चों को सुनने एवं बोलने के लिए छह लाख तक का निःशुल्क ऑपरेशन किया जाएगा। छूटे हुए दिव्यांग बच्चे ऑनलाइन आवेदन करके प्राप्ति रसीद दिव्यांग अधिकारी कार्यालय में जमा करें। उत्तर प्रदेश परिवहन में निःशुल्क यात्रा कर सकते है। दिव्यांगों को पाँच सौ  प्रति माह पेंशन दी जाएगी। किसी प्रकार का सुझाव देना हो तो हो तो पत्र लिख सकते हैं। लड़का और लड़की को समान रूप से शिक्षा दी जाए।
बुधवार को हाफिज सिद्दीकी इस्लामिया इण्टर कॉलेज में पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं दिव्यांग सशक्तिकरण विभाग के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने 350 ट्राई साइकिले, 4 व्हील चेयर, 45 जोड़ी वैशाखी एवं 17 श्रवण यंत्र दिव्यांगों को वितरित किए। उन्होंने कहा कि दिव्यांगों के लिए अधिक से अधिक व्यवस्था कराने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि दिव्यांगों को उत्तर प्रदेश में 300 से बढ़ाकर 500 रुपए प्रतिमाह सीधे दिव्यांगों के बैंक खाते में दिया जाता है। शैल्य चिकित्सा के लिए आठ हजार से बढ़ाकर दस हजार रुपए दिए जाएंगे। विद्यालय में दिव्यांगों के भोजन के लिए 1200 रुपए प्रतिमाह अब 2000 रुपए प्रतिमाह  हो गया है। उन्होंने कहा कि शून्य से 5 वर्ष के बच्चों को सुनने एवं बोलने की सर्जरी के लिए पहले 10,000 रुपए मिलते थे लेकिन अब छह लाख रुपए मिलेंगे। दिव्यांगों के लिए कैंप लगाकर प्रतिमाह निःशुल्क कृत्रिम अंग वितरण करने की व्यवस्था की है। उत्तर प्रदेश परिवहन निगम बस में दिव्यांगों के लिए निःशुल्क यात्रा मिलेगी। उन्होंने कहा कि बेटा हो या बेटी सब को एक समान शिक्षा दी जाए। दिव्यांगों को विकास की मुख्यधारा से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। भाजपा जिला अध्यक्ष हरीश शाक्य ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार दिव्यांगों के हित के लिए बहुत सारी योजनाएं चला रही है जिससे उनको जीवन यापन करने में अब कोई समस्या नहीं होगी। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन अजय कुमार श्रीवास्तव, जिला विकास अधिकारी सेवाराम चौधरी, अशोक भारती, पूर्णिमा गुप्ता, सीमा राठौर, विश्वजीत गुप्ता, सुधीर श्रीवास्तव सहित भाजपा के अन्य कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी मौजूद रहे। मंच संचालन लोक निर्माण विभाग के प्रशासनिक अधिकारी रविंद्र मोहन सक्सेना ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.