बदायूँ: क्रय केन्द्रों पर बिचौलियों की नो एंट्री : डीएम

बदायूँ :  सरकार की मंशा है कि कृषकों को उनके हक़ की वाजिब रकम मिले और उन्हें किसी प्रकार की कोई समस्या उत्पन्न न होने पाए। दलालों को सरकारी क्रय केन्द्रों में प्रवेश न करने दिया जाए। मजदूर को उसकी मेहनत की मजदूरी रोजाना दी जाए तथा गेहूँ बेचने आने वाले किसानों को उचित व्यवस्थाएं प्रदान की जाएं।
बुधवार को जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने भारतीय खाद्य निगम द्वारा संचालित गेहूँ क्रय केन्द्र जगत का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने केन्द्र प्रभारी को निर्देश दिए कि मजदूरों को उनकी मजदूरी का भुगतान प्रतिदिन किया जाए। किसानों को 72 घंटे के भीतर उनके गेहूँ के वज़न के अनुसार 1735 रुपए प्रति कुन्तल की दर से भुगतान किया जाए। उन्होंने कहा कि किसान के गेहूँ के वज़न के अनुसार रसीद दी जाए तथा किसी भी प्रकार की कोई कटौती नहीं की जाए। उन्होंने कड़े निर्देश देते हुए कहा कि बिचौलियों का गेहूँ क्रय कतई न किया जाए। क्रय केन्द्र पर बिचौलियों की नो एंट्री रहे। कृषकों को बैठने के लिए छायादार स्थान तथा पीने के लिए स्वच्छ पानी आदि की व्यवस्थाएं पर्याप्त रहनी चाहिए। डीएम ने कृषक भूरे पुत्र मोहरसिंह निवासी रूपपुर से पूछा कि किसका गेहूँ है एवं डीएम के अन्य किसी सवाल का वह कोई जवाब न दे सका, डीएम ने उसको संदिग्ध मानते हुए क्रय प्रभारी को उसका गेहूँ न तोले जाने के निर्देश दिए। डीएम ने किसानों से कहा कि किसी भी कृषक को गेहूँ की तौल कराने में किसी प्रकार की दिक्कत आ रही हो तो तत्काल उनके नम्बर 9454417525 एवं सम्बंधित उपजिलाधिकारी को फोन कर अवगत कराएं उनकी समस्या का तुरन्त निस्तारित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कृषक अपने गांव में जाकर अन्य किसानों को बताएं कि अपना गेहूँ केवल सरकारी क्रय केन्द्र पर ही बेचें, जिससे उनको बाजारू भाव की अपेक्षा अधिक लाभ प्राप्त होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.