बदायूँ : डीएम ने दिए संक्रामक रोगों से बचने के उपाय

बदायूँ : संक्रामक रोगों से फैली बीमारियों से ग्राम रहमा में छह लोगों एवं ग्राम मूसाझाग में पांच लोगों की मृत्यु हो चुकी है। जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने इन गांवों का निरीक्षण करते हुए कहा कि गांव में कोई भी व्यक्ति बीमार पड़ता है तो तत्काल उसे एंबुलेंस की निःशुल्क सेवा 102 एवं 108 से जिला अस्पताल में भर्ती कराए।
गुरुवार को डीएम ने जगत विकासखंड के अंतर्गत रहमा एवं मूसाझाग में संक्रामक रोगों के ग्रस्त लोगों से मिले। ग्राम रहमा का निरीक्षण करते हुए डीएम ने पाया कि अमरपाल के घर के पास से राजीव कुमार कोटेदार के घर तक तथा विद्यालय जाने वाली गली में कीचड़ की स्थिति बनी पाई, गई तो वहीं विद्यालय प्रांगण में भी पानी भरा पाया गया। डीएम ने पीडी डीआरडीए रामसिंह को जल निकास एवं रास्ता बनवाने के निर्देश दिए हैं। उसके उपरान्त उन्होंने ग्राम मूसाझाग का भी निरीक्षण किया। यहां उनको अवगत कराया गया कि सफाई कर्मचारी सुरेन्द्र कुमार समय से सफाई करने नहीं आता है। इस पर डीएम ने उसके वेतन रोकने के आदेश दिए। उन्होंने ग्रामीणों से अपील की कि कोई भी व्यक्ति खुले में शौच के लिए न जाए। बरसात का मौसम चल रहा है, जहरीले जीव-जन्तु खेत में घूमते रहते है, जिससे जनहानि भी हो सकती है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों को निर्देश दिए कि गांवों में मलेरिया की दवाई बराबर वितरित करें तथा  गांवों में  एंटी लार्वा  दवाई की फागिंग  प्रतिदिन की जाए  जिससे मच्छर  न पनप सके। गांव में कहीं भी जलभराव न होने दें। कहीं भी जलभराव दिखता है तो उसमें तत्काल जला हुआ मोबीआइयाल डाल दे। रात में सोते समय सभी लोग मच्छरदानी का प्रयोग करें। उन्होंने गांव के लोगों को साफ सफाई रखने के निर्देश दिए और कहा कि कोई भी व्याक्ति रास्ते में जानवर न बांधे। सभी लोग स्वयं तथा अपने आस पड़ोस में सफाई रखें। इस समय सभी लोग पानी उबालकर एवं क्लोरीन की गोली डाल कर इस्तेमाल करें। उन्होंने चिकित्सकों को कड़े निर्देश दिए कि मरीज के साथ में कोई भी लापरवाही न बरती जाए। इस अवसर पर प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ अनिल कुमार एवं डॉक्टर कौशल सहित संक्रामक रोग नियंत्रण चिकित्सा टीम मौजूद रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published.