बदायूँ: प्रत्येक माह पेरेंट्स टीचर मीटिंग अवश्य करें : जिलाधिकारी

बदायूँः  पेड़ लगाना प्रत्येक व्यक्ति का उत्तम दायित्व है। प्रत्येक अध्यापक क्लासवार रजिस्टर बनाकर बच्चों द्वारा किया गया पौधारोपण की डिटेल उपलब्ध कराएं। टीचर पेरेंट्स एवं बच्चों के साथ प्रत्येक माह एक मीटिंग अवश्य करें। बच्चे विद्यालय प्रतिदिन नहा धोकर एवं कपड़े साफ-सुथरे पहनकर आएं। अध्यापक रजिस्टर बनाकर बच्चे के अभिभावकों का नाम नंबर अवश्य दर्ज करें। विद्यालय में प्रार्थना के बाद प्रतिदिन आधा घंटा संस्कार की बताई गई बातों का बच्चों के घर जानकारी करें। हर व्यक्ति के जीवन में शिक्षित होना बहुत महत्वपूर्ण है।
शानिवार को जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने हाफिज सिद्दीकी इस्लामिया इंटर कॉलेज में पौधारोपण किया। उन्होंने बच्चों से कहा कि एक बच्चा अपने घर में जितने पेड़ों की जगह हो उसमें पेड़ अवश्य लगाएं तथा अपने कक्षा अध्यापक को अवगत कराएं। पेड़ों से ऑक्सीजन मिलती है जिससे धरती पर सभी प्राणी जीवित रहते हैं। पेड़ों के बिना जीवन संभव नहीं है इन्हीं से सभी जीव जंतु मनुष्य प्राणदायिनी हवा पाकर जीवित रहते हैं। उन्होंने बच्चों को बताया कि पॉलीथिन का इस्तेमाल न करेंगे और न किसी पड़ोसी को करने देंगे। पॉलीथिन जमीन पर डालने से परत जम जाती है जिससे बरसात का पानी जमीन के अंदर नहीं जा पाता है और भूमि जल स्तर में कमी हो जाती है। पॉलिथीन नाले और नालियों में पड़ने से चोक हो जाते हैं जिससे जगह-जगह जलभराव होने के कारण विभिन्न प्रकार की बीमारियां उत्पन्न हो जाती हैं। डीएम ने बच्चों से कहा कि प्रतिदिन विद्यालय ड्रेस पहनकर एवं साधारण बाल कटाकर ही पढ़ने आए। प्रत्येक बच्चा नहा धोकर कपड़े साफ सुथरे ही पहनकर आना चाहिए। बच्चे अपने माता पिता एवं बड़ों के पैर छूकर विद्यालय में आएं। उन्होंने बच्चों से संस्कारी बातें जानी और उनसे पहाड़े सुने। विद्यार्थियों को किताबें ड्रेस स्कूल बैग वितरित किए। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि पढ़ाई बहुत ही जीवन में महत्वपूर्ण होती है। मेहनत से पढ़ाई करने पर ही भविष्य उज्जवल होता है। उन्होंने कहा कि विद्यालयों में एक रजिस्टर बनाया जाए जिस पर बच्चे के अभिभावक का नाम पता एवं मोबाइल नंबर दर्ज किया जाए। प्रार्थना के बाद आधे घंटे अध्यापक बच्चों के घर से बात कर फीडबैक लें जिससे उनके अभिभावक भी खुश होंगे और यह भी पता चलेगा कुछ बच्चे घर से तो आते हैं लेकिन विद्यालय नहीं पहुंचते है। सभी बच्चे मेहनत और लगन के साथ पढ़ाई कर अपना तथा अपने जनपद का नाम रोशन करें। उन्होंने कॉलेज के प्रधानाचार्य को निर्देश दिए कि प्रत्येक माह में एक बार अध्यापक बच्चे और उनके माता पिता के साथ बैठक अवश्य करें, जिससे अभिभावक भी महसूस करेंगे कि विद्यालय अच्छे से पढ़ाई करा रहा है। विद्यालय में जिस दिन बच्चा पढ़ने न आए उसके घर से फोन कर न आने का क्या कारण है, अवश्य जाना जाए। विद्यालय में प्रार्थना के बाद बच्चों को अच्छे संस्कार की बातें बताई जाए साथ में फोन करके घर से भी पूछा जाए कि विद्यार्थी बताई गई बातों का घरों में पालन कर रहे हैं या नहीं। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी के घर से बात करके जो फीडबैक मिले उसे रजिस्टर में अवश्य अंकित किया जाए। प्रत्येक माह बच्चों का टेस्ट लिया जाए। उन्होंने प्रधानाचार्य को निर्देश दिए कि विद्यालय के प्रांगण को साफ-सुथरा एवं समतल बनाकर वृक्षारोपण कराए। इस अवसर पर प्रधानाचार्य मोहम्मद खिजर अहमद, नगर मजिस्ट्रेट संजय कुमार सिंह सहित समस्त अध्यापकगण मौजूद रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.