बदायूँ: बंदियों के न्याय में न रहे कोई कसर

बदायूँ :  जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव राकेश कुमार तिवारी की अध्यक्षता में जिला कारागार में विधिक सेवा का शिविर लगाकर लगाकर बन्दीगणों को जानकारी दी गई। उन्होंने शिविर में उपस्थित बन्दीगणों को बताया कि अपने अधिकारों के प्रति जागरुक रहना चाहिए और अपने विरुद्ध लगे आरोपित मामलों की सही ढंग से वकील की नियुक्ति कर पैरवी करें। किसी बंदीगढ़ के मामले में पैरवी नहीं हो रही हो तो उन्हें जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि किसी बंदी को न्याय नहीं मिल पाता है तो जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से निःशुल्क अधिवक्ता दिलाया जाएगा। कारागार एक सुधार गृह की भांति होता है जहां से अच्छी बातें देखकर अच्छे नागरिक बनें और रिहा होकर समाज में सम्मान पूर्वक जीवन यापन करें। शिविर का संचालन जेल अधीक्षक के पी त्रिपाठी द्वारा किया गया। उन्होंने उपस्थित बंदीगणों को आयोजित शिविर के उद्देश्य के संबंध में अवगत कराया कि किसी भी बन्दीगण को किसी भी प्रकार की कोई असुविधा है तो वह इस शिविर में बता सकते हैं। शिविर में नामिका अधिवक्ता संतोष कुमार सक्सेना ने बन्दीगणों को बताया कि अपने अधिकारों के प्रति जागरुक रहें। किसी बन्दी की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है और वह अपने मामले की पैरवी करने हेतु निःशुल्क अधिवक्ता नियुक्त करना चाहते हैं तो इसके लिए आवेदन कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.