बदायूँ: बिजली के बकाया बिल उपभोक्ताओं पर कसेगा शिकंजा

बदायूँः  विद्युत से कहीं भी घटना घटित होती है तो अधिकारी तत्काल पहुंचकर समस्या का समाधान करें। विद्युत की जर्जर लाइनों से हो रही मनुष्य, पशुओ की मृत्यु तथा फसलों के नुकसान पर रोक लगाई लाएं। किसानों के ट्यूबवेल के लिए विद्युत कनेक्शन के स्टीमेट प्रार्थना पत्र मिलते ही तत्काल बनाया जाए। विद्युत का सामान स्टोर पर वरिष्ठता क्रम की सूची के अनुसार वितरित किया जाए। शेष 103 प्राथमिक विद्यालयों में 30 जून तक शत-प्रतिशत कनेक्शन पूर्ण किए जाएं। विद्युत के फुके ट्रांसफर समय से बदले जाएं। विद्युत के लिए आवेदन आने पर प्रोसेसिंग फीस की रसीद कटने से ही लोगों को प्राइटी दी जाए। विद्युत विभाग 15 दिनों के अंदर संबंधित क्षेत्रीय विधायक से संपर्क कर समस्याओं को दूर करें। विद्युत की छोटी-छोटी कमियां तत्काल दूर करें।
सोमवार को कलेक्ट्रेट स्थित सभागार में सदर विधायक महेश चंद्र गुप्ता, जिलाध्यक्ष हरीश शाक्य, जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी प्रशासन अजय कुमार श्रीवास्तव, विद्युत विभाग के मंडलीय अधिकारी मधुप श्रीवास्तव सहित विद्युत विभाग के समस्त अधिकारियों के साथ बैठक आयोजित की गई। सदर विधायक ने कहा कि सभी अधिकारी युद्ध स्तर पर लग कर कार्य करें, जिससे जनपद का नाम प्रदेश में प्रथम स्थान पर आए। जिलाध्यक्ष ने कहा कि विद्युत विभाग पर लगे कलंक को दूर करे, तथा विभाग की छवि को सुधारें, जिससे लोगों को निर्धारित किए गए समय के अनुसार विद्युत पूर्ति कर सके। जिलाधिकारी ने बिजली विभाग के अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए जहां-जहां जर्जर विद्युत लाइने है वहां पैदल चल कर देख ले और झूलते हुए तारों को तत्काल ठीक करें, जिससे आए दिन हो रही घटनाएं न हो। जनपद में बजाज इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड द्वारा कराए जा रहे विद्युतीकरण के अधिकारी शिशुपाल सिंह को जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि 30 जून तक शेष 103 विद्यालयों में विद्युतीकरण करा देते हैं तो उनको सम्मानित करेंगे। उन्होंने कहा कि एक जुलाई से विद्यालयों में बच्चे पंखे की हवा में बैठकर पढ़ाई कर सके। उन्होंने बिजली विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिस विधानसभा में किसी भी प्रकार की समस्या आ रही हो, तो तत्काल संबंधित विधायक तथा सांसद से मिलकर समस्या का हल अवश्य करे। जेई अपने-अपने क्षेत्र में जर्जर तारों की लाइन को चिन्हित कर तत्काल बदलवाने का कार्य करें। जेई गांव-गांव जाकर खराब तारों का एस्टीमेट बनाकर बदलवाने का कार्य प्रारंभ करें। किसानों को ट्यूबवेल कनेक्शन के लिए प्रार्थना पत्र मिलते ही तत्काल इस्टीमेट बनाएं। प्रोसेसिंग फीस 100 रुपए रसीद काटने के दिन से ही प्राइटी दी जाए। उन्होंने सभी अधिकारियों को संकल्प दिलाया कि किसी भी स्तर पर कोई लापरवाही नहीं करेंगे। डीएम ने कहा किसानों का ट्यूबवेल कनेक्शन निर्धारित मानकों के अनुसार ही बनाएं। स्टोर पर किसानों को विद्युत सामान एक वरिष्ठता की सूची बना कर ही वितरित किया करें। स्टोर रूम पर किसानों का मोबाइल नंबर अवश्य रखा जाए, जिससे किसान का नाम सामान लेने का आए उसे फोन कर अवगत कराया जाए। स्टोर पर वरिष्ठता क्रम की सूची बाहर दीवार पर चस्पा की जाए, और संबंधित क्षेत्रीय विधायकों को भी उपलब्ध कराएं। उन्होंने कहा कि यह सारी जिम्मेदारी जेई की होगी। किसानों को विद्युत कनेक्शन का सारा सामान एक साथ ही दिया जाए। विद्युत विभाग के अधिकारी समय-समय पर जाकर क्षेत्र का निरीक्षण करते रहें। जहां तक विद्युत लाइन गई हो वहां तक जेई पैदल चलकर चेक करें, और जर्जर लाइन सही कराएं। फुंके ट्रांसफार्मर समय से बदले जाएं। उन्होंने कहा कि गांव का फुंका ट्रांसफर जब तक न बदला जाए जब तक उस गांव के सभी उपभोक्ता बिजली का वकाया बिल जमा न कर दें। डीएम ने बिजली विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि शहर के जिन मोहल्लों में लाइट चोरी की जा रही है वहां पर पहले से एसडीएम सीओ की अध्यक्षता में एक बैठक आयोजित कर सभी लोगों को सूचित कर दें कि जो भी विद्युत चोरी करेगा, उसके विरुद्ध तत्काल एफआईआर दर्ज कर जेल भेजें। बिजली के बिलों में अनियमितताएं पाए जाने पर जिलाधिकारी ने विद्युत विभाग को निर्देश दिए कि गांव-गांव कैंप लगाकर उपभोक्ताओं के विद्युत बिल सही करें। विद्युत विभाग के अधिकारियों ने बताया कि जिन गांव में विद्युत लेने के लिए अधिकारी नहीं पहुंच प रहे हैं, वहां के लोग नजदीकी लोकवाणी केंद्र में जमा कर सकते हैं। जिलाधिकारी ने सभी अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए कि विद्युत का कार्य निर्धारित मानक के अनुसार गुणवत्तापूर्ण करें। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की लापरवाही पाई जाती है तो क्षम्य नहीं किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.