बदायूँ: राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने की बैठक

बदायूँ: 01 जनवरी 2021 के आधार पर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के सम्बन्ध में विचार-विमर्श हेतु मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ उप जिला निर्वाचन अधिकारी नरेन्द्र बहादुर सिंह की अध्यक्षता में बैठक एडीएम कार्यालय में आयोजित की गई।
उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने अवगत कराया कि भारत निर्वाचन निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार अर्हता तिथि 01-01-2021 के आधार पर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम दिनांक 17-11-2020 से आरम्भ हो रहा है जिसके अनुसार दिनांक 17-11-2020 को निर्वाचक नामावलियों का आलेख्य प्रकाशन किया जायेगा, तथा उक्त अभियान के अन्तर्गत दिनांक 15-12-2020 तक दावे आपत्तियां प्राप्त किये जायेंगे।
पुनरीक्षण का विस्तृत कार्यक्रम इस प्रकार रहेगा कि विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की एकीकृत निर्वाचक नामावलियों का आलेख्य प्रकाशन17 नवम्बर, 2020 (मंगलवार) होगा। दावे और आपत्तियां प्राप्त करने की अवधि 17 नवम्बर, 2020 (मंगलवार) से 15 दिसम्बर, 2020 (मंगलवार) तक, विशेष अभियान तिथियां 22-11-2020 (रविवार), 28-11-2020 (शनिवार), 05-12-2020 (शनिवार), 13-12-2020 (रविवार) रहेंगी। दावे/आपत्तियों का निस्तारण 05 जनवरी, 2021 (मंगलवार) तक, पूरक सूचियों की तैयारी 14 जनवरी, 2021 (बृहस्पतिवार) तक एवं निर्वाचक नामावलियों का अन्तिम प्रकाशन 15 जनवरी, 2021 (शुक्रवार) को होगा।
कार्यक्रम के अनुसार आगामी दिनांक 17-11-2020 को जनपद के अन्तर्गत आने वाले सभी 06 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों क्रमषः 112-बिसौली (अ0जा0), 113-सहसवान, 114-बिल्सी, 115-बदायूँ, 116-षेखूपुर तथा 117-दातागंज के सभी मतदेय स्थलों (कुल 2557 मतदेय स्थल/1710 मतदान केन्द्र) पर आलेख्य निर्वाचक नामावलियों का प्रकाषन किया जायेगा। बीएलओ (बूथ लेविल आफिसर) द्वारा पुनरीक्षण अवधि के दौरान उपरोक्त पुनरीक्षण अवधि दिनांक 17-11-2020 से 15-12-2020 तक की अवधि में मतदाता सूची का घर-घर जाकर सत्यापन किया जायेगा। प्रत्येक बीएलओ के पास एकीकृत आलेख्य निर्वाचक नामावली की प्रति एवं गत अन्तिम प्रकाषन-2020 के उपरान्त निरन्तर पुनरीक्षण के दौरान तैयार की गई पूरक सूची-2 उपलब्ध कराई जायेगी तथा आवष्यक संख्या में फार्म-6,7,8, व 8क आदि उपलब्ध कराये जा रहे हैं। इसी क्रम में सभी मतदान केन्द्रों के लिए पदाभिहित अधिकारियों (क्मेपहदंजमक व्ििपबमते) की नियुक्ति की जा रही है। उक्त पदाभिहित अधिकारी प्रत्येक कार्य दिवस में प्रातः 10-00 बजे से 4-00 बजे के मध्य मतदान केन्द्रों पर उपस्थित रहेंगे तथा निर्वाचक नामावली की एक प्रति जनसामान्य के अवलोकनार्थ उपलब्ध रहेगी। इसके साथ ही सभी मतदान केन्द्रों पर पर्याप्त संख्या में फार्म-6, 6ए, 7 8 और 8क भी उपलब्ध रहेंगे।
उपरोक्तानुसार प्रकाषित एकीकृत आलेख्य निर्वाचक नामावली ‘‘मूल नामावली 2020 एवं उसके पष्चात की सभी अनुपूरक सूचियों को एकीकृत करते हुए‘‘ तैयार की गई है जोकि ‘‘एकीकृत आलेख्य मूल नामावली-2021‘‘ है। उक्त एकीकृत आलेख्य निर्वाचक नामावलियों का एक सेट तथा गत अन्तिम प्रकाषन-2020 के उपरान्त निरन्तर पुनरीक्षण के दौरान तैयार की गई पूरक सूची-2 की एक प्रति सभी मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय एवं राज्यीय राजनैतिक दलों को उपलब्ध कराई जायेगी। उक्त प्रयोजन हेतु निर्वाचक नामावलियों के मुद्रण की कार्यवाही की जा रही है।
उपरोक्त पुनरीक्षण अवधि दिनांक 17-11-2020 से 15-12-2020 तक में सभी पात्र व्यक्तियों जिनकी आयु दिनांक 1-1-2021 को 18 वर्ष या उससे अधिक है और उनका नाम निर्वाचक नामावली में पंजीकृत नहीं है, वे अपना नाम निर्वाचक नामावली में सम्मिलित कराने हेतु प्रारूप-6 में आयु/जन्मतिथि व निवास से सम्बन्धित उपयुक्त प्रमाण-पत्र सहित अपने मतदेय स्थल पर बीएलओ को, तहसील कार्यालय या जिला निर्वाचन कार्यालय में जमा कर सकते हैं। इसके साथ ही निर्वाचक नामावली में विद्यमान किसी मृतक, शिफ्टेड, डुप्लीकेट मतदाता का नाम कटवाने हेतु फार्म-7 एवं किसी प्रविष्टि में संशोधन हेतु फार्म-8 भरकर जमा किये जा सकते हैं।
उपरोक्त के सम्बन्ध में भारत निर्वाचन आयोग का उद्देष्य है कि समस्त अर्ह नागरिक निर्वाचक नामावली में पंजीकृत हो जायें एवं निर्वाचक नामावली में दर्ज नाम, पता, आयु एवं अन्य प्रविष्टियों में विद्यमान त्रुटियों को दूर कर दिया जाये। इस महत्वपूर्ण कार्य में राजनैतिक दलों के सहयोग की आवष्यकता को दृष्टिगत रखते हुए उनकी सहभागिता बढ़ाने तथा पुनरीक्षण के कार्य में उनका सक्रिय सहयोग प्राप्त करने हेतु आयोग द्वारा बूथ लेविल एजेन्ट्स की व्यवस्था बनाई गई है ताकि उनके जनता तथा बीएलओ को सहयोग करने का पूरा मौका मिल सके।
उल्लेखनीय है कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देषानुसार बीएलए द्वारा एक बार में अधिकतम दस फार्म तक, आवेदन फार्मों की सूची निर्धारित प्रारूप पर तथा बीएलए की इस घोषणा के साथ संबंधित बूथ लेबिल अधिकारियों को आवेदन प्रस्तुत करेंगे कि उन्होंने (बीएलए) आवेदन फार्मों में निहित विवरणों का व्यक्तिगत रूप से सत्यापन कर लिया है और इस बात के प्रति संतुष्ट हैं कि वे सही हैं। किसी भी बीएलए द्वारा पुनरीक्षण की पूर्ण समयावधि के दौरान अधिकतम 30 आवेदन पत्र प्रस्तुत किये जा सकते हैं। इस सम्बन्ध में यह पुनः स्पष्ट किया गया है कि आयोग के निर्देषानुसार विहित लिखित घोषणा के बिना किसी भी बीएलए से थोक में कोई भी आवेदन प्राप्त नहीं किये जायेंगे। इससे सम्बन्धित घोषणापत्र एवं प्रस्तुत किये जाने वाले फार्म-6,7 के आवेदनों की सूची का प्रारूप संलग्न किया जा रहा है।
उपरोक्त के सम्बन्ध में आप सभी से अनुरोध है कि आप विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के सभी मतदेय स्थलों हेतु बूथ लेविल एजेन्ट्स की नियुक्ति करने का कष्ट करें तथा इसके साथ ही उन्हें मतदाता सूची की तैयारी के सम्बन्ध में विधिक प्रावधानों के महत्वपूर्ण बिन्दुओं एवं आयोग के अद्यतन निर्देषों से भी अवगत कराते हुए पुनरीक्षण कार्य में बी0एल0ए0 के माध्यम से अपना पूर्ण सहयोग प्रदान करने का कष्ट करें। इस प्रयोजनार्थ सभी मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों को जनपद के सभी 06 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के मतदेय स्थलों की सूची इस अनुरोध के साथ उपलब्ध कराई जा रही है कि वह सभी मतदेय स्थलों हेतु अपने दल के बूथ लेवल एजेन्ट्स की नियुक्तियां करते हुए सूची (नाम, पता, मोबाइल नम्बर सहित) जिला निर्वाचन कार्यालय एवं संबंधित निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी कार्यालय को उपलब्ध कराने का कष्ट करें। आपकी सुविधा हेतु विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए मतदेय स्थलवार नियुक्त किए गए बूथ लेविल आफिसर की सूची आपको पृथक से उपलब्ध कराई जा रही है।
विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2021 कार्यक्रम के व्यापक प्रचार प्रसार, निर्वाचक नामावली में छूटे हुए सभी अर्ह मतदाताओं विशेष रूप से युवा, महिला मतदाताओं के नाम सम्मिलित कराने हेतु फार्म-6 भरवाये जाने, निर्वाचक नामावली में विद्यमान मृतक, शिफ्टेड, डुप्लीकेट मतदाताओं के नाम निर्वाचक नामावली से अपमार्जित कराने हेतु सम्बन्धित मतदाताओं के फार्म-7 भरवाये जाने में अपना अमूल्य सहयोग प्रदान करने का कष्ट करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.