बदायूँ: विद्यालय में गंदगी देख डीएम का चढ़ा पारा।

बदायूँ :  जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने गंगा नदी द्वारा ग्राम जोरी नगला के पास चल रहे बांध कटान का निरीक्षण किया। उन्होंने बाढ़ खंड अभियंता दीपक शर्मा को निर्देश दिए कि युद्ध स्तर पर कार्य करके इस कटान को रोका जाए। बांध पर चल रहे काम में गांव के ही लोग लगाए जाए जिससे उनको रोजगार उपलब्ध हो सके।
गुरुवार को डीएम ने जोरी नगला बांध पर पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने निर्देश दिए कि कटान को रोकने के लिए ज्यादा से ज्यादा लेबर लगाकर तीव्र गति से कार्य करें। बांध के मरम्मत कार्य तथा कटान को रोकने में किसी प्रकार की लापरवाही न करें। तत्पश्चात जिलाधिकारी ने जोरी नगला के प्राथमिक विद्यालय में निरीक्षण किया। विद्यालय में टूटी-फूटी फर्ज एवं साफ सफाई न पाए जाने पर ग्राम प्रधान को कड़ी फटकार लगाते हुए निर्देश दिए विद्यालय साफ-सुथरा एवं सुंदर रखें। उन्होंने प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों में ग्राम प्रधान को निर्देश दिए कि फर्श में टाइल्स लगावाएं। उन्होंने प्रधान को निर्देश दिए कि विद्यालयों में अब फर्श नहीं बनवाई जाएगी इसकी जगह पर टाइल्स लगवाई जाएगी। विद्यालयों में टूटे फूटे खिड़की दरवाजे सभी सही कराएं जाए। प्राथमिक विद्यालय में बच्चों से इस बारे में पूछा तो बच्चों ने बताया कि ड्रेस आ चुकी है अभी तक वितरित नहीं की गई। डीएम ने घटिया क्वालिटी की ड्रेस होने के कारण प्रधानाचार्य को निर्देश दिए कि तत्काल ड्रेस वापस करके कपड़े खरीद कर अच्छी क्वालिटी की ड्रेस बनवाकर बच्चों को वितरित करें। स्कूलों में बच्चों की उठने बैठने की व्यवस्था चाक चौबंद रहनी चाहिए। जिलाधिकारी ने आंगनवाड़ी केंद्र पर आंगनबाड़ी कार्यकत्री एवं सहायिका से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि डीपीओ के कहने पर 5 सितंबर को पोषाहार दिवस नहीं मनाया गया और न ही पोषाहार का वितरित किया गया है। उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी का जवाब तलब करने के निर्देश दिए। उन्होंने विद्यालय एवं आंगनबाड़ी केंद्र के आसपास घूरा पड़ा होने और गंदगी पाए जाने पर निर्देश दिए कि तत्काल जेसीबी द्वारा साफ सफाई कराएं। गांव में बिजली आने का समय पहुंचने पर गांव के लोगों ने बताया कि 6 से 7 घंटे तक बिजली आती है तो उन्होंने निर्देश दिए कि इसका एक रजिस्टर बनाया जाए और इसमें बिजली आने का समय दर्ज किया जाए। डीएम ने बताया कि गांव में बिजली आने का समय 18 घंटा शासन द्वारा निर्धारित किया गया है। डीएम ने गांव के लोगों को संक्रामक रोगों से बचने के लिए निर्देश दिए कि घरों के आसपास एवं घरों में सफाई रखें और जहां पर भी जलभराव हो उसमें मोबीऑयल डाल दें जिससे मच्छर न पनप सके। उन्होंने गांव के लोगों को बताया कि पानी उबालकर ठंडा होने पर इस्तेमाल करें। रात को सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें। उन्होंने कहा कि यह सभी तरीके अपनाकर संक्रामक रोगों से बचा जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.