“सथरा-कांड” तिहरे हत्याकांड में परत दर परत खुलीं कड़ियां, दो और गिरफ्तार

उसहैत/बदायूं। थाना क्षेत्र के गांव सथरा में 31 अक्टूबर को सपा नेता और उसावां के पूर्व ब्लाक प्रमुख राकेश गुप्ता, उनकी पत्नी शारदा देवी, मां शांति देवी की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। इस मामले में राकेश गुप्ता के भाई राजेश गुप्ता ने गांव के ही भाजपा नेता रविंद्र दीक्षित, उनके बेटे सार्थक और अर्चित व चालक विक्रम उर्फ विक्की के अलावा दो अज्ञात को नामजद किया था।

           पुलिस की गिरफ्त में दो और अपराधी।

बताते चलें कि सपा नेता और उनकी पत्नी और मां की हत्या के मास्टरमाइंड विक्की को फिलहाल पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इसके साथ ही पुलिस को लगातार चकमा देने में उसकी मदद करने वाले मुखबिर को भी पुलिस ने पकड़ लिया है। गौरतलब कि तिहरे हत्याकांड के कई राज बाहर लाने के लिए पुलिस को आरोपितों के चालक विक्रम उर्फ विक्की की तलाश थी।जो पुलिस को लगातार चकमा दे रहा था।

पुलिस ने वारदात की रात में ही रविंद्र दीक्षित और उनके बेटे सार्थक को गिरफ्तार कर लिया था। लेकिन इस पूरे मामले का मास्टरमाइंड विक्रम उर्फ विक्की पुलिस की गिरफ्त से बाहर था। पुलिस उसकी तलाश में बीते दस दिन से खाक छान रही थी। इसके साथ ही पुलिस उसे भी ढूढ़ रही थी, जिसने राकेश गुप्ता का दरवाजा खुलवाया।

इन सबके सवाल विक्रम उर्फ विक्की के पास थे। जैसे ही विक्रम पुलिस के हाथ लगा वैसे ही पुलिस की सारी कड़ियां परत दर परत खुलती चली गईं। विक्की ने बताया कि राकेश का दरवाजा उनके ही खास और अक्सर उनके साथ रहने वाले गांव के ही अवनीश ने खुलवाया था। इसके बाद अवनीश घर के अंदर चला गया और राकेश से बात करने लगा।

इसी बीच आरोपित विक्रम उर्फ विक्की, रविंद्र दीक्षित, सार्थक के अलावा एक शूटर चांद मियां घर के अंदर घुस आए और ताबड़तोड़ गोलियां मारकर वारदात को अंजाम देकर निकल गए। पुरानी रंजिश और हत्या के डर से आसपास के लोग भी कुछ नहीं बोले। पुलिस ने शुक्रवार को आरोपित विक्की और अवनीश की गिरफ्तारी कर ली है। अब चांद मिया की गिरफ्तारी ही शेष बची है। जिसके लिए थाना प्रभारी अवधेश सेंगर की टीम ने कमर कस ली है। जल्द ही चांद मियां को भी गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाएगा।

समाचार असद अहमद बदायूं उत्तर प्रदेश।