बिल्सी: गुधनी में स्थित आर्य संस्कारशाला गुधनी मे दो प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया

बिल्सी : तहसील क्षेत्र के ग्राम गुधनी में स्थित आर्य संस्कारशाला गुधनी मैं  आज दो प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया !  एक तरफ बालक दूसरी तरफ बालिकाएं रही बालकों की आज वाद विवाद व   काव्य प्रतियोगिता आयोजित की गई जिसमें 35 बच्चे विजई हुए। आर्य संस्कारशाला के संस्थापक संचालक आचार्य संजीव रूप ने  प्रतियोगिताओं  का शुभारंभ कराया । कब प्रतियोगिता अनूठी शैली में  आयोजित हुई जिसमें शिक्षिका श्रीमती प्रज्ञा आर्य ने प्रतियोगियों को दो भागों में बांटा और प्रतियोगिता आरंभ की गई एक टोली को बोलना था– सोना भी जरूरी है ! इसका जबाब काव्यात्मक शैली में दूसरी टोली को देना था –जगना भी जरूरी है!  फिर दूसरी टोली काव्य शैली में सवाल करती –“हंसना भी जरूरी है , तो दूसरी टोली को उत्तर देना था –“रोना भी जरूरी है”  कड़वा भी जरूरी है , मीठा भी जरूरी है!  लेना भी जरूरी है देना भी जरूरी है ! इस प्रकार से यह प्रतियोगिता बालकों के अंदर  हर्ष उत्पादक रही और उनका बौद्धिक विकास हुआ ! आचार्य संजीव रूप व ग्राम के ही समाज सेवी मास्टर राम सेवक के द्वारा बालकों को पुरस्कार वितरण किया गया। वाद विवाद प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर यीशु आर्य, द्वितीय स्थान कुमारी मोना रानी को मिला तथा तीसरे स्थान पर कुमारी ईशा आर्य रही काव्य प्रतियोगिता में सभी 60 बच्चे पुरस्कृत किए गए।
नईम अब्बासी की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.