दातागंज: पूर्व माध्यमिक विद्यालय सराय पिपरिया के वच्चों को नहीं पता प्रधानमंत्री का नाम/विद्यालय के प्रधानाचार्य मिले अनुपस्थित। (राजेन्द्र कुमार की रिपोर्ट)

बदायूं:  विकास खण्ड दातागंज के पूर्व माध्यमिक विद्यालय सराय पिपरिया की है यहां के कक्षा 6,7,8, के बच्चों की हालत बहुत ही खस्ता है। उन्हें बेसिक नॉलेज भी नहीं आती है और न ही हिंदी पढ़नी आती है बच्चों को इतना भी नहीं पता है कि वह कौन से प्रदेश में रहते हैं, उनके प्रधानमंत्री का क्या नाम है तथा उनके मुख्यमंत्री का क्या नाम है। तथा भारत की राजधानी कहाँ है और तो और ब्लैक बोर्ड पर तारीख भी एक हफ्ते वाद बदली जाती है। जिससे यह प्रतीत होता है कि बच्चों की पढ़ाई के मामले में जनपद के सरकारी विद्यालयों की हालत बहुत ही खस्ता है। जब महत्वपूर्ण फोन नंबर वाला विद्यालय का बोर्ड देखा गया तो वहां पर कोई नंबर अंकित भी नहीं था। तथा रसोई घर में भी मकड़ी के जाले इत्यादि चीजों की गंदगी पाई गई जब बदायूं सन टाइम न्यूज़ की टीम विद्यालय पहुंची तो प्रधानाचार्य प्रेम सिंह अनुपस्थित थे तथा सहायक अध्यापिका विजय कुमारी ने उनसे फोन पर बात कराई तो उन्होंने बताया कि वह बीएसए के किसी प्रोग्राम में गए हैं। तथा विद्यालय में विजय कुमारी सहायक अध्यापिका तथा मेघा सूर्यवंशी अनुदेशक। दो लोगों का ही स्टाफ मिला ।बच्चों की इतनी दयनीय दशा देखकर यह सवाल खड़ा होता है की एक पूर्व माध्यमिक विद्यालय पर सरकार कितना रुपया खर्च करती होगी लेकिन नतीजा सिर्फ शून्य ही आता है। इस तरह की विद्यालयों की हालत को देखकर लोगों का सरकारी विद्यालयों से विश्वास सा उठ गया है और जो व्यक्ति सक्षम है वह अपने बच्चों को प्राइवेट विद्यालय में पढ़ाना पसंद करता है योगी सरकार हर चीज में शक्ति दिखा रही है तो फिर क्यों यह विद्यालय सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं विद्यालय में लगे महान पुरुषो के चित्रों की आंखे रंग से मिटा दी है यहां तक की विद्यालय में तैनात अनुदेशक मेघा ने एक वार टीम को राजनीति का हवाला देते हुऐ हड़काने की कोशिश की लेकिन वाद में उन्हे पता चला कि टीम के साथ व्युरो ने विद्यालय में खुद प्रवेश किया है तो वह एक क्षेत्रीय सत्ता पक्ष के नेता से फोन पर वात कराने का प्रयास कराने में लगी रहीं लेकिन नकाम रहीं।वाद में टीम पर झूठा आरोप लगाने की धमकी दे डाली, अब देखना यह होगा कि शासन प्रशासन विद्यालय के स्टाफ के विरूध कार्यवाही अमल में लाता है या लीपा पोती कर मामला रफा दफा किया जायेगा। यह तो समय ही वतायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.