कोरिया: सैनिक ने स्वयं के खर्च पर जिले के सभी शासकीय महाविद्यालयों में लगाये यातायात संकेतक बोर्ड। (वेदप्रकाश तिवारी की रिपोर्ट)

कोरिया:- जिला मुख्यालय बैकुंठपुर के यातायात विभाग में पदस्थ सैनिक महेश मिश्रा द्वारा अपने स्वयं के खर्च पर जिले के सभी शासकीय महाविद्यालयों में यातायात संकेतक बोर्ड लगाया गया है जिससे कि महाविद्यालयों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को यातायात संकेतों की पूरी जानकारी मिल पा रही है गौरतलब है कि श्री मिश्रा जिले भर के स्कूल कॉलेजों में निरंतर कैंप लगाकर छात्र-छात्राओं को यातायात नियमों, संकेतों और चिन्हों की जानकारी प्रदान कर रहे हैं यातायात संकेतक बोर्ड के लगने से छात्रों को ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने में आने वाली असुविधा से मुक्ति मिलेगी व लाइसेंस बनवाने के प्रति छात्रों का रुझान बढ़ेगा साथ ही सड़क पर चलते समय नियमों की जानकारी होने पर दुर्घटनाओं में कमी आएगी।
जिले में यातायात के प्रति लोगों को जागरूक करने में एक ऐसा नाम जो आज हर किसी के जुबान में है पेसे से सैनिक के पद पर पदस्थ महेश मिश्रा ने यातायात जागरूकता अभियान को समाज सेवा के रूप में अपनाया मगर अब यह उनके लिए एक जुनून बन चुका है श्री मिश्रा निरंतर कैंप लगाकर लोगों को यातायात के प्रति जागरूक कर रहे हैं साथ ही समाज सेवा के क्षेत्र में भी निरंतर इनकी सहभागिता रही है जिसके तहत स्वयं के खर्च से वाहन चालकों को निःशुल्क चश्मा का वितरण करना शहर के प्रमुख चौराहों की सड़कों के गड्ढों को भरना सड़क दुर्घटना में घायलों की निरंतर मदद करना कुपोषित बच्चों को पोषण आहार का वितरण छात्रों को पुरस्कार व सम्मान भेंट के साथ ही यातायात संकेतक बोर्ड लगवाने का कार्य किया जा रहा है इनके इस नेक काम की शहर में चारों तरफ प्रशंसा हो रही है तथा अनेक अवसरों पर सम्मानित भी होते रहे हैं।
श्री मिश्रा ने बताया कि उनका लक्ष्य स्कूली शिक्षा पाठ्यक्रम में माध्यमिक,उच्च माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक स्तर पर एक पाठ यातायात का शामिल कराने का है जिससे कि छात्रों को पढ़ाई के साथ ही यातायात के नियमों, संकेतों एवं चिन्हों की पूर्ण जानकारी प्राप्त हो सके एवं बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं में रोक लग सके आज देश में सबसे ज्यादा असामयिक मौतों का प्रमुख कारण सड़क दुर्घटना है सड़क दुर्घटना में मौतों के मामले में सबसे अधिक युवा वर्ग के होते हैं इन मौतों को रोकने का सबसे अच्छा जरिया होगा कि इन्हें छात्र जीवन में ही नियमों की पूरी जानकारी प्रदान कर दी जाए सड़क दुर्घटना में अधिकांश लोग ऐसे होते हैं जो जानकारी के अभाव में दुर्घटना के शिकार होते हैं आज के युवा वर्ग में स्टाइलिश, महंगी व अधिक सीसी की गाड़ियों का का शौक बहुत तेजी से बढ़ रहा है साथ ही चंद पलों की खुशी, दिखावे, रेस लगाने एवं साथियों के साथ स्टंट करने की प्रवृत्ति भी देखी जा रही है जो की पूर्णतः जोखिम भरा होता है पल भर की लापरवाही से इसमें जान जा सकती है अगर स्कूली शिक्षा के दौरान छात्रों को इन सब के बारे में बताया जाएगा तो निश्चित ही इसका लाभ हमें देखने को मिलेगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.