बदायूँ: कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों ने दी दक्षता परीक्षा।

बदायूँः  उच्च प्राथमिक ब्लॉक स्तरीय दक्षता परीक्षा में कुल जनपद के 3906 परीक्षार्थी शामिल हुए। कक्षा 6 से 8 तक के प्रत्येक कक्षा में 1302 बच्चों ने परीक्षा दी। प्रत्येक कक्षा के टॉप पाँच-पाँच बच्चे चुने जाएंगे जिनकी दक्षता परीक्षा जिला स्तर पर कराई जाएगी। विद्यालयों के शिक्षक एवं बच्चे मिलकर अपने-अपने गांवों को “मेरा गांव सबसे अच्छा, मेरे बच्चे सबसे अच्छे, मेरा विद्यालय सबसे अच्छा, मेरा गांव पूरा शिक्षित“ कंपटीशन करके जनपद में शिक्षा का वातावरण बदलना है। अध्यापक गांव में अशिक्षित लोगों की सूची बनाकर शिक्षित करने का कार्य करें। जनपद के लोग जब तक शिक्षित नहीं होंगे तब तक जिला आगे नहीं बढ़ेगा। विद्यालयों की रंगाई पुताई कराके मॉडल स्कूल बनाए जाए।
रविवार को जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने शिक्षा विभाग द्वारा कराई जा रही कक्षा 6 से 8 तक उच्च प्राथमिक ब्लॉक स्तरीय दक्षता परीक्षा में कुंवर रुकुम सिंह वैदिक इंटर कॉलेज नगला पूर्वी में 588 एवं शिवाजी शिशु मंदिर इंटर कॉलेज म्याऊँ मे परीक्षा दे रहे 287 बच्चों के केन्द्रो का निरीक्षण किया। उन्होंने  म्याऊं में  कक्षा 6 से 8 तक के प्रत्येक क्लास के पांच पांच बच्चों को  माला पहनाकर एवं प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया। उन्होंने कहा इस परीक्षा में प्रत्येक कक्षा से टॉप  पांच-पांच बच्चों के जिला स्तर पर परीक्षा कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि दक्षता परीक्षा कराने से अध्यापक एवं बच्चों में पढ़ने पढ़ाने में कंपटीशन होगा और रुचि बढ़ेगी। विद्यालयों में शिक्षा का वातावरण बदलना है। अध्यापक बच्चों को प्रतिदिन विद्यालयों में प्रातः प्रार्थना के बाद आधे घंटे संस्कारिक बातें एवं पीटी कराएं। बच्चों को स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं संस्कारी शिक्षा दी जाए। उन्होंने कहा कि बच्चे अपने माता पिता से जिद करें कि खुले में शौच करने न जाए। जिन घरों में शौचालय नहीं है ऐसे लोग खुले में शौच करने के बाद खुरपी से ढक कर आए। उन्होंने कहा कि समाज शिक्षित होने से ही जिले की तरक्की होगी। शिक्षक और बच्चे गांवों के अनपढ़ लोगों की सूची बनाकर शिक्षित करने का कार्य करें। अध्यापक शासन द्वारा चलाई जा रही विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं की  गांव में लोगों की जानकारी दें। शिक्षा का वातावरण बना कर सभी लोगों को शिक्षित करना है लोग शिक्षित होंगे तभी जिला, प्रदेश और देश आगे बढ़ेगा। डीएम ने बच्चों से गिनती पहाड़े एवं राष्ट्रीय गीत भी सुने। उन्होंने कहा कि जिन बच्चों के अनपढ़ माता पिता है ऐसे बच्चे अपने माता पिता को शिक्षित करने का कार्य करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.