बिसौंली : नही रुकने देंगे डग्गामार बाहनो को

बदायूँ/बिसौंली : जिले के तेजतर्रार एसएसपी अशोक कुमार बार बार निर्देश देते है ।फिर भी थाना प्रभारी इस और बिल्कुल ध्यान नही देते है हम बता दे कि पिछले दिनों एसएसपी अशोक कुमार ने कहा कि डग्गामार बाहनो के पीछे लगे पायदानों को कटबाया जाए जिससे पीछे सवारियां न लटके पर बिसौंली थाना प्रभारी एसएसपी के आदेश को ताख पर रखकर डग्गामार वाहनों को रोकने में असफल सावित हो रहे है ।इसका जीता जागता उदाहरण है कि बिसौंली में आंवला स्टैंड ,आँवला रोड, चन्दौसी रोड ,बिल्सी रोड पर भूसे की तरह सवारियों को भरकर टेम्पो चलते जिससे आये दिन हादसे होते रहते है ।टेम्पो में मात्र 7से 8 सवारियां पास है पर इसमे 15 से 20 सवारियों को बैठाकर चलते है जिससे आये दिन हादसे होते रहते है ।जब किसी अखबार में खबर प्रकाशित होती है तब कुछ समय के लिये इस पर लगाम लगती तो है पर चंद घंटों के बाद बैसा ही हो जाता है जैसा पहले से रूल चल रहा होता है ।आखिर बिसौंली पुलिस की क्या मजबूरी है डग्गामार बाहनो को रोकने में क्या किसी माननीय का दबाव तो नही है पुलिस पर ।

यहाँ तो पुलिस की आँखों के सामने बच्चे चलाते हैं टेम्पो

बिसौंली में नाबालिक बच्चे पुलिस के सामने बैटरी रिक्शा चलाते हैं जिस पर पुलिस हमेशा मूक दर्शक बनी रहती है ।एक बार चेकिंग के दौरान बिसौंली के प्रभारी निरीक्षक ओपी गौतम द्वारा उसे पकड़ा भी गया था पर हुआ क्या उन्ही के हटते ही उन्ही के कांस्टेबल के द्वारा उसे फिर छोड़ दिया गया आखिर क्यों फिर से बो है अब आजाद क्योकि उसे पुलिस की सपरस्ती जो मिल गयी ।

डग्गामार बाहनो की बजह से लगता है जाम

बिसौंली में जाम की स्तिथि इतनी पैदा हो गयी है कि सुबह के दस बजते ही डग्गामार बाहनो का आवागमन शुरू हो जाता है इधर से उधर होते ही रहते है और रोड के आसपास खड़े कर लेते है जिससे भारी वाहनों का निकलना मुश्किल हो जाता है और जाम की स्तिथि पैदा हो जाती है ।इस नजारे को तो जब प्रभारी निरीक्षक जी निकलते होंगे तभी उन्हें पता लग जाता होगा कि कैसी हालत है रोड की आखिर कब सुधरेगी पुलिस की कार्यशैली ।थाने का तो रंगरोगन बहुत अच्छे से करा दिया पर जाम और डग्गामार बाहनो से मुक्ति नही दिला पाये कोतवाल साहब ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.