बदायूँ: भ्रष्टाचार के विरुद्ध उपवास दूसरे दिन भी रहा जारी/किसानों को भूमि का पूरा मूल्य और नौकरी दिलाने तक चलेगा आंदोलन/सार्वजनिक स्थानों पर मांस मछली मदिरा का अवैध कारोबार नहीं चलने देंगे।

बदायूँ: भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के तत्वावधान में जनपद बदायूं को देश का प्रथम भ्रष्टाचार मुक्त जनपद बनाने हेतु जनोपयोगी कानूनों सूचना का अधिकार, जनहित गारंटी कानून,नियम 24 एवं पंचायत राज व्यवस्था को प्रभावी बनाने, राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं रिजोला सोलर प्लांट को भूमि देने वाले कृषकों को पूर्ण मूल्य एवं नौकरी देने तथा मांस मछली एवं मदिरा के अवैध कारोबार को बन्द किए जाने की मांग को लेकर मालवीय आवास गृह बदायूं पर उपवास दूसरे दिन भी जारी रहा।

उपवास स्थल पर राष्ट्र राग “” रघुपति राघव राजाराम………”” का कीर्तन किया गया।

इस अवसर पर विचार व्यक्त करते हुए भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मार्गदर्शक सेवानिवृत्त प्रवक्ता एच एल झा ने कहा कि भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान द्वारा जनपद बदायूं को देश का प्रथम भ्रष्टाचार मुक्त जनपद बनाने का पवित्र लक्ष्य लेकर निरन्तर सत्याग्रह व उपवास के कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। प्रदेश सरकार ने भी कई मांगों पर निर्णय लिया है। उत्तर प्रदेश राजकीय कर्मचारी आचरण नियमावली के नियम 24 को भी प्रभावी बनाने के लिए सरकार विवश हुई है।

अभियान के मार्गदर्शक एम एल गुप्ता ने कहा कि किसी भी उद्योग की स्थापना के लिए तथा किसी लोकहितकारी उपक्रम की स्थापना हेतु भूमि अधिग्रहण कानून बनाया गया है। लेकिन इस कानून का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। राजकीय मेडिकल कॉलेज की स्थापना हेतु भूमि अधिग्रहण कानून का उल्लघंन कर किसानों को धोखा देकर उनकी भूमि ले ली गई। सर्किल रेट के चार गुने के आधार पर भूमि का पूरा मूल्य नहीं दिया गया। भूमि लिए जाने के समय नौकरी देने का भी समझौता किसानों के साथ हुआ था किन्तु अभी तक भूमिदाता किसानों को नौकरी भी नहीं दी गई है।

अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड़ एडवोकेट ने कहा कि राजकीय मेडिकल कॉलेज की स्थापना हेतु धोखा देकर किसानो से भूमि ली गई उसी प्रकार रिजोला सोलर प्लांट की स्थापना हेतु भी धोखा देकर किसानो की जमीन ले ली गई। किसानों की बात को सुना नहीं जा रहा है, सार्वजनिक भूमि पर भी कब्जा कर लिया गया है, प्रशासन मौन है। अनुसूचित जाति के कृषकों की भूमि के बैनामे बिना अनुमति के ही करा लिए गए हैं। निरन्तर सन्घर्ष के बाद भी शासन प्रशासन कार्यवाही करने को तैयार नहीं है।

अभियान के प्रमुख सहयोगी मो इब्राहीम ने कहा कि मांस मछली और मदिरा का अवैध कारोबार खुलेआम चल रहा है,धर्मस्थलो,शिक्षण संस्थानों एवं चिकित्सालयों व सार्वजनिक स्थानों पर मांस मछली मदिरा का विक्रय जिम्मेदारों के संरक्षण में किया जा रहा है।

उपवास स्थल से उपवास पर बैठे सहयोगियों के हस्ताक्षर युक्त पत्र ईमेल व ट्विटर के माध्यम से देश के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री ,राज्यपाल, मुख्य मंत्री, उपमुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, आयुक्त व जिलाधिकारी बदायूं को प्रेषित किये गये।

आज उपवास पर रामगोपाल, राम-लखन, अखिलेश सिंह, जयकिशन लाल शर्मा, रामगोपाल, नेत्रपाल, सुखराम, जुगेंद्र सिंह, पप्पु,शेर सिंह,नारद सिंह, मेवाराम, श्रीराम, अमित कुमार,रतीराम, उदयवीर सिंह,सिपट्टर सिंह,नीरेश, जयपाल सिंह, सुरेश पाल सिंह, छोटेलाल,बदन सिंह, राकेश सिंह,रिन्कू पाल,सन्जय, रामनाथ, भिखारी सिंह, रूपेन्द्र सिंह आदि बैठे।

उपवास दिनांक 27-12-2018 को भी जारी रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.