बदायूँ: गुरुपुरी विनायक के जितेंद्र कुमार ने टॉयलेट ब्यूटी कांटेस्ट में मारी बाजी।

बदायूँः  स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत जनपद को खुले से शौच मुक्त के लिए “मेरा शौचालय सबसे अच्छा “ब्यूटी कॉन्टेस्ट में विकास खंड सलारपुर के अंतर्गत ग्राम गुरुपुरी विनायक के जितेंद्र ने बाजी मारी। सभी प्रधान पंचायत सचिवगण, स्वच्छाग्रही रोजगार सेवक, आशा, आंगनवाड़ी, सफाई कर्मचारियों ने संयुक्त रूप से अपनी-अपनी गांव पंचायतों में बने हुए शौचालयों का निरीक्षण किया। गांव में अच्छे, साफ सुथरे, सुंदर शौचालयों में से पांच सबसे सुंदर शौचालय चयनित किए गए। शौचालय स्वामियों को माला पहनाकर और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया।
बुधवार को सदर विधायक महेश चंद्र गुप्ता एवं जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने गुरुपुरी विनायक में पहुंचकर शत प्रतिशत वृक्षारोपण के अंतर्गत लगाए गए पेड़ों को जीवित देखकर खुशी जाहिर की और साफ-सुथरे एवं सुंदर स्वच्छ शौचालयों को देखकर भी उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त की। टॉयलेट ब्यूटी कॉन्टेस्ट में पाँच सर्वश्रेष्ठ शौचालय चुने गए। टॉयलेट ब्यूटी कॉन्टेस्ट प्रतिस्पर्धा में जितेंद्र कुमार ने प्रथम स्थान, सतीश कुमार सिंह द्वितीय, राकेश कुमार तृतीय, यजुवेंद्र चतुर्थ एवं गंगाधर पंचम स्थान प्राप्त किया। सदर विधायक एवं डीएम ने इन शौचालय स्वामियों को माला पहनाकर एवं प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया। सदर विधायक ने कहा कि ऐसी प्रतिस्पर्धाओं से लोगों में अच्छा करने तथा अच्छा सोचने की उमंग उत्पन्न होती है। उन्होंने कहा कि टॉयलेट ब्यूटी कॉन्टेक्ट से गांव के लोगों में खुले में शौच न करने के प्रति जागरुकता आएगी। गांव के सभी लोग अपने अपने शौचालयों का ही प्रयोग करें कोई भी वक्त खुले में शौच करने न जाए। उन्होंने कहा कि गांवों में इतने स्वच्छ एवं सुंदर शौचालय देखकर खुशी हो रही है।
जिलाधिकारी ने कहा कि टॉयलेट ब्यूटी कॉटेस्ट पूरे जनपद में चलाया जा रहा है। इसके अन्तर्गत प्रत्येक गांव से पाँच-पाँच साफ-सुथरे एवं सुंदर शौचालयों का चयन किया जा रहा है। उन्होंने गांव में शत प्रतिशत वृक्षारोपण में लगाए गए पौधों को जीवित पाए जाने पर तथा गांव की साफ सफाई ठीक ढंग से एवं स्वच्छ शौचालय देखकर खुशी व्यक्त की और क्रिटिकल फंड से दो लाख रुपए की धनराशि से गांव के विद्यालय की बाउंड्री वाल का निर्माण कराने का भी ऐलान किया। उन्होंने कहा कि इस अतिरिक्त धनराशि से गांव के विद्यालय को मॉडल विद्यालय के रूप में बनाया जाए। गांव की क्रास नालियों पर लोहे के जाल लगवाए जाएं। ग्राम प्रधान यह सुनिश्चित करें कि प्रत्येक गांव में स्प्रे एवं फॉगिंग मशीन खरीदवाकर प्रत्येक सप्ताह गांव में स्प्रे एवं फागिंग कराएं। डीएम ने गांव के सभी लोगों को शपथ दिलाई की कि कोई भी व्यक्ति खुले में शौच न करेगा और न ही किसी को करने देगा। सभी लोग शौचालय का ही इस्तेमाल करेंगे, जिससे विभिन्न प्रकार की बीमारियों एवं कुरीतियों से बचा जा सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.