बदायूँ: चौथे दिन भी जारी रहा भ्रष्टाचार के विरुद्ध उपवास/आन्दोलन के प्रभाव से ही देश और प्रदेश में भ्रष्टाचार पर शुरू हुई चर्चा।/बीडीसी महासंघ ने आन्दोलन को दिया समर्थन।

बदायूँ: भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के तत्वावधान में जनपद बदायूं को देश का प्रथम भ्रष्टाचार मुक्त जनपद बनाने हेतु जनोपयोगी कानूनों सूचना का अधिकार, जनहित गारंटी कानून,नियम 24 एवं पंचायत राज व्यवस्था को प्रभावी बनाने, राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं रिजोला सोलर प्लांट को भूमि देने वाले कृषकों को पूर्ण मूल्य एवं नौकरी देने तथा मांस मछली एवं मदिरा के अवैध कारोबार को बन्द किए जाने की मांग को लेकर मालवीय आवास गृह बदायूं पर उपवास चौथे दिन भी जारी रहा।

उपवास स्थल पर राष्ट्र राग “” रघुपति राघव राजाराम………”” का कीर्तन किया गया।

भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मार्गदर्शक बीएसएनएल पेंशनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष एस सी गुप्ता ने कहा कि शासन प्रशासन किसान विरोधी मानसिकता का त्याग करें तथा राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं रिजोला सोलर प्लांट को भूमि देने वाले कृषकों को पूर्ण मूल्य एवं नौकरी प्रदान करे। ज़िले में गुड़ गवर्नैन्श की स्थापना हेतु जनोपयोगी कानूनों को प्रभावी बनाया जावे।घनी बस्ती में मांस मछली का विक्रय रोका जाए।

इस अवसर पर विचार व्यक्त करते हुए भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड़ एडवोकेट ने कहा कि उपवास आरंभ होते ही देश व प्रदेश में भ्रष्टाचार पर चर्चा शूरू हो गई है। वर्ष 2014 मे आम चुनाव में भ्रष्टाचार मुख्य मुद्दा था, किन्तु भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए कोई प्रभावी उपाय नहीं किए गए, लोकपाल बिल पारित किया गया,लागू किए बिना ही सन्शोधन कर दिया लेकिन लोकपाल और लोकायुक्त की नियुक्तियां नहीं की गई । इसी प्रकार 2017 के विधानसभा चुनाव में भी भ्रष्टाचार एक प्रमुख मुद्दा था। लेकिन भ्रष्टाचार के विरुद्ध सरकार गंभीर नहीं है। तीन मंत्रियों के निजी सचिवों के विरुद्ध भ्रष्टाचार के मामले में निलम्बन की कार्यवाही नहीं की गई,एफ आई आर दर्ज कराई गई किन्तु मन्त्रियो के विरुद्ध कोई कार्यवाही न किया जाना संदिग्ध है। जनपद बदायूं में टायलेट ब्यूटी कांटेस्ट के दिन शौचालय घोटाला उजागर हुआ। भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान जनपद बदायूं के कई बड़े घोटाले शीघ्र उजागर करेगा।

अभियान के प्रमुख सहयोगी अखिलेश सिंह ने कहा कि भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के वर्ष 2017 केआन्दोलन के प्रभाव से ही जिले में राशन वितरण प्रणाली में सुधार के कार्य आरंभ किए गए। सैकड़ों विक्रेताओं के विरुद्ध कार्रवाई की गई किन्तु किसी भी विभागीय अधिकारी के विरुद्ध कार्यवाही नहीं की गई।दो पूर्ति निरोक्षको के विरुद्ध एफआईआर भी दर्ज हुई। भ्रष्ट तत्वों को संरक्षण देने हेतु कार्यवाही को रोक दिया गया।

उपवास का समर्थन करते हुए बी डी सी महासंघ के जिला अध्यक्ष डॉ सुशील कुमार सिंह ने कहा कि बी डी सी महासंघ भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान द्वारा चलाए जा रहे आन्दोलन को हम नैतिक समर्थन प्रदान करते हैं। भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान द्वारा पंचायत राज व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए चलाया जा रहा अभियान प्रशन्सनीय है।

उपवास स्थल से उपवास पर बैठे सहयोगियों के हस्ताक्षर युक्त पत्र ईमेल व ट्विटर के माध्यम से देश के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री ,राज्यपाल, मुख्य मंत्री, उपमुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, आयुक्त व जिलाधिकारी बदायूं को प्रेषित किये गये।

आज उपवास पर डा एस के सिंह, मनसुखलाल गुप्ता, रमाकांत मिश्र, सुरेश पाल सिंह, अखिलेश सिंह, नेत्रपाल, महेश चन्द्र, नक्षत्रपाल सिंह विशनपाल,,जयेश पाल,महताब, बेचेलाल, राजपाल, छोटे लाल, जयपाल सिंह,पप्पू, रामप्यारी,राजकुमारी, अमित कुमार, राजेश, भिखारी सिंह, रूपेन्द्र सिंह,पूरन लाल, मोहनलाल, प्रेमपाल सिंह, जुगेंद्र सिंह, पप्पु, अनिल प्रकाश,गौरव कुमार, सतेन्द्र पाल सिंह, मेवाराम, श्रीराम,रतीराम, राजेश कुमार गुप्ता, जुगेंद्र सिंह, मोहनलाल, भगवान दास, कृष्ण पाल, उदयवीर सिंह,सिपट्टर सिंह,नीरेश आदि बैठे।

उपवास दिनांक 29-12-2018 को भी जारी रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.