कोरिया: श्रद्धा से मना साहिबजादों का शहीदी पर्व। (वेदप्रकाश तिवारी की रिपोर्ट)

कोरिया/चिरमिरी। गुरु गोविंद सिंह जी के साहिबजादों की शहादत, गुरु माता गुजर कौर की शहादत पर शुक्रवार को शहीदी गुरुपर्व मनाया गया। डोमनहिल माता गुजरी कीर्तन में धनबाद, झारखंड से पहुंची जसलीन कौर कीर्तन जत्था ने शबद गायन व भजन कीर्तन से गुरू जी महिमा का बखान कर संगत को निहाल कर दिया। शबद, कीर्तन व गुरुवाणी पाठ पूरे दिन चलता रहा। इसके बाद विशेष अरदास हुई और लंगर का भी आयोजन किया गया।

सभा में बताया गया कि इस दिन 1705 ई. को गुरु जी के छोटे दो साहिबजादे जोरावर सिंह एवं फतेह सिंह जुल्मी मुगल शासन के अत्याचार के खिलाफ धर्म एवं सत्य की रक्षा में न्योछावर हो गए थे। इस धर्म युद्ध में सरवंशदानी गुरु गोविंद सिंह जी ने अपने पिता, चारों पुत्रों तथा समस्त परिवार की शहादत देकर बलिदान की ऐसी मिसाल कायम की है जिसका कोई जोड़ नहीं है। संगत में माथा टेकने वालों ने गुरूजी के बताए गए रास्ते पर चलने का प्रण लिया।

इस अवसर पर पूर्व विधायक श्याम बिहारी जायसवाल, उपक्षेत्रीय प्रबंधक चिरमिरी एच एस मदान, ब्लाक काग्रेंस अध्यक्ष सुभाष कश्यप सहित समाज के वरिष्ठ सरदार तारा सिंह, बलवंत सिंह ने तीन वर्ग में आयोजित पंजाबी गुरुमुखी परीक्षा में श्रेष्ठ अंक प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों को पुरुस्कृत किया। पंजाबी गुरुमुखी परीक्षा में 5 से 10 आयु वर्ग में गुरजोत सिंह, सरबजोत सिंह, अशमीत कौर। 11 से 20 आयु वर्ग में सिमय कौर, उसमीत कौर, रवनीत कौर। तथा 21 से ऊपर आयु वर्ग में देवेंद्र कौर, मनमीत कौर, मनप्रीत कौर, सतनाम कौर को स्मृति चिंह देकर सम्मानित किया। इसी प्रकार गुरुवाणी पाठ कंठस्थ वर्णन करने की प्रतियोगिता में सिमरन कौर, रवनीत कौर, यशदीप कौर को पुरुस्कृत किया गया। इसके बाद अतिथियों ने धर्म संबंधित पुस्तकों का विमोचन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.