बदायूँ: छठे दिन भी जारी रहा भ्रष्टाचार के विरुद्ध उपवास/आन्दोलन के प्रभाव से ही जनपद में खुलने लगे हैं घोटाले।

बदायूँ: भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के तत्वावधान में जनपद बदायूं को देश का प्रथम भ्रष्टाचार मुक्त जनपद बनाने हेतु जनोपयोगी कानूनों सूचना का अधिकार, जनहित गारंटी कानून,नियम 24 एवं पंचायत राज व्यवस्था को प्रभावी बनाने, राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं रिजोला सोलर प्लांट को भूमि देने वाले कृषकों को पूर्ण मूल्य एवं नौकरी देने तथा मांस मछली एवं मदिरा के अवैध कारोबार को बन्द किए जाने की मांग को लेकर मालवीय आवास गृह बदायूं पर उपवास छठे दिन भी जारी रहा।

उपवास स्थल पर राष्ट्र राग “” रघुपति राघव राजाराम………”” का कीर्तन किया गया।

भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड़ एडवोकेट ने कहा कि उपवास के प्रभाव से जनपद बदायूं में घोटाले खुलने लगे हैं। प्रशासन भ्रष्टाचार के मामलों को गंभीरता से नहीं लेता है। नागरिकों की आवाज दबाने हेतु जनसुनवाई पोर्टल को भ्रष्ट तत्वों द्वारा निष्प्रभावी करने का प्रयास किया गया है। जनसुनवाई पोर्टल पर पांच मिनट में एक शिकायत दर्ज होती थी अब एक नागरिक तीन दिन में एक शिकायत दर्ज करा सकेगा। भ्रष्ट तत्व नागरिकों की आवाज को शासन तक पहुंचने से रोकने के लिए हर तरह के हथकंडे अपना रहे हैं साथ ही जनसुनवाई पोर्टल पूरी तरह बाबुओं के हवाले कर दिया गया है। आरोपी की आख्या के आधार पर शिकायत निस्तारित कर दी जाती है। शिकायतकर्ता का पक्ष नहीं सुना जाता है और न ही उसे जांच के परिणाम से ही अवगत कराया जाता है।

इस अवसर पर विचार व्यक्त करते हुए भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के सह जिला समन्वयक शमसुल हसन ने कहा कि भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के सहयोगी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के अनुयाई हैं,उन्ही के दिखाये गये पथ पर चलकर हम गांधी वादी तरीके से निरन्तर उपवास कर रहे हैं। किन्तु प्रशासन हठधर्मिता का परिचय दे रहा है तथा मांगों को गम्भीरता से नहीं ले रहा है। अभियान के सहयोगी पीछे हटने वाले नहीं हैं,जब तक मांगे पूरी नहीं हो जायेगी उपवास जारी रहेगा।

उपवास स्थल से उपवास पर बैठे सहयोगियों के हस्ताक्षर युक्त पत्र ईमेल व ट्विटर के माध्यम से देश के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री ,राज्यपाल, मुख्य मंत्री, उपमुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, आयुक्त व जिलाधिकारी बदायूं को प्रेषित किये गये।

उसावां विकास खंड समन्वयक असद अहमद ने कहा कि जनपद बदायूं में भ्रष्टाचार चरम पर है, खुलेआम रिश्वत ली जाती है। बिना रिश्वत के कोई कार्य नहीं किए जाते हैं। वर्तमान में जनपद में शस्त्र आवेदको का खुलेआम आर्थिक शोषण हो रहा है। शस्त्र आवेदन प्रस्तुत करने से लेकर अग्रसारित कराने तक की प्रक्रिया बिना सिफारिश तथा बिना रिश्वत के नहीं की जा रही है। सम्बन्धित कार्यालयों में आवेदकों की भीड़ लगी रहती है।

आज उपवास पर मनसुखलाल गुप्ता, सुरेश पाल सिंह, अखिलेश सिंह, नेत्रपाल, नक्षत्रपाल सिंह ,विशनपाल,,जयेश पाल,महताब,रफी अहमद, बेचेलाल, राजपाल, छोटे लाल,डा आर जी गोस्वामी, जयपाल सिंह,पप्पू, रामप्यारी,राजकुमारी, अमित कुमार, कमलेश कुमार, राजेश, भिखारी सिंह, रूपेन्द्र सिंह,पूरन लाल, मोहनलाल, अनिल अग्रवाल, प्रेमपाल सिंह, जुगेंद्र सिंह, पप्पु, अनिल प्रकाश,गौरव कुमार, अमीरुद्दीन,, मेवाराम, श्रीराम,रतीराम, जयकिशन लाल शर्मा, जुगेंद्र सिंह, मोहनलाल, भगवान दास, कृष्ण पाल, उदयवीर सिंह,सिपट्टर सिंह, अजयपाल आदि बैठे।

उपवास दिनांक 31-12-2018 को भी जारी रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.