बदायूँ: सौर ऊर्जा लैम्प की बैठक आयोजित

बदायूँ : कलेक्ट्रेट सभागार में 70 लाख सौर ऊर्जा लैम्प योजना के अन्तर्गत मुख्य विकास अधिकारी की अध्यक्षता में जिला स्तरीय बैठक का अयोजन किया गया। महिलाओं को मिलेगा रोजगार व बच्चों को मिलेंगी स्टडी सौर ऊर्जा लैम्प। सोलर लैम्प योजना की शुरूआत प्रथम चरण में ब्लॉक आसफपुर, सालारपुर एवं उसावां में हुई। समूह की महिलाओं को रोजगार व स्कूल जाने वाले ग्रामीण बच्चों को मिलेगा पढ़ाई के लिये स्टडी सौर ऊर्जा लैम्प मिलेगा। इस योजना के हेड आई0आई0टी0 मुम्बई की तरफ से देख रहे उत्तर प्रदेश राज्य के परियोजना प्रबन्धक शैलेन्द्र द्विवेदी ने बताया कि 70 लाख सौर ऊर्जा लैम्प योजना चलायी जा रही है। यह योजना भारत सरकार के नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय एवं आई0आई0टी0 मुम्बई, ई0ई0एस0एल0, उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण मिशन के संयुक्त तत्वावधान में चलायी जा रही इस योजना के अन्तर्गत समूह की महिलायें असेम्बली एवं डिस्ट्रीब्यूशन, रिपेयरिंग, सौर उद्यमी का कार्य करेंगी। इस योजना का उद्देशय महिलाओं को रोजगार एवं स्कूल जाने वाले ग्रामीण बच्चों को स्वच्छ प्रकाश मिलेगा। यह योजना भारत सरकार के नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के द्वारा जारी इस योजना का उद्देशय भारत के सभी गरीब प्रारम्भिक से माध्यमिक स्तर(1 से 12) तक छात्र-छात्राओं को पढ़ाई करने के लिये स्कूल में लैम्प वितरण 100रू0 में किया जायेगा जबकि इस लैम्प की वास्तविक मूल्य 700रू0 है। इस लैम्प को असेम्बल करने में 12रू0 प्रति लैम्प एवं वितरण करने वाली महिलाओं को 17रू0 प्रति लैम्प एवं दिया जायेगा। जिससे महिलाएं 1 दिन में 300रू0 से 400रू0 तक लगभग आमदनी कर सकती है। महिला सशक्तिकरण को समर्पित आजीविका मिशन के विविध कदमों में एक महत्वपूर्ण पहल महिलाओं को रोजगार के साधनों से जोड़ते हुये उनके परिवार को सामाजिक सुरक्षा उपलब्ध कराना है। सोलर लैम्प योजना बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिये काफी मददगार साबित होगी। यह योजना उन-उन क्षेत्रों में चलायी जा रही जहॉ पर या बिजली का कनक्ेशन नहीं हैं और कनक्ेशन है तो बिजली की कटौती होती है या फिर उनसे प्राप्त प्रकाश नहीं मिलता उसके कारण या फिर स्कूल जाने वाले बच्चे शाम को कैरोसिन दीपक में पढ़ते हैं। या तो उनके पढ़ने में असुविधा होती है। इसलिये सोलर लाईट परियोजना विशेष रूप में स्कूल के बच्चों के लिये तैयार की गयी है। सोलर लैम्प प्रशिक्षण के बाद यहीं के समुदाय की महिलायें असेम्बली एवं डिस्ट्रीब्यूशन कार्य करेंगी तथा विभिन्न गांव से चयनित महिलाओं का जनपद स्तरीय 05 दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण लैम्प असेम्बली एवं डिस्ट्रीब्यूशन का दिया जायेगा। तथा इन तीनों ब्लॉक में 01 असेम्बली एवं डिस्ट्रीब्यूशन केन्द्र स्थापित किया जायेगा। आसफपुर- 27511 लैम्प, सालरपुर- 27358 लैम्प एवं उसावां- 33000 लैम्प बच्चों को लैम्प वितरण किया जायेगा। तथा योजना के अन्तर्गत 150महिलाओं को रोजगार भी मिलेगा। इस योजना के अर्न्तगत 150 महिलाओं की 05 दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण जिला स्तर पर आई0आई0टी0 मुम्बई के इंजीनियर के द्वारा दिया जायेगा। तथा 05 दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण कार्यक्रम जनवरी 2019 में सम्पन्न हो जायेगा।
यह योजना उत्तर प्रदेश में 19 सितम्बर 2017 को शुरू हुई थी। अभी तक की उत्तर प्रदेश की प्रगति इस प्रकार है 22 जनपद(उन्नाव, लखनऊ, हरदोई, खीरी, बहराईच, गोरखपुर, हमीरपुर, चित्रकूट, सोनभद्र, वारणासी, मिर्जापुर, इलाहाबाद, चंदौली, बांदा, महोबा, फतेहपुर, जालौन, आजमगढ़, अम्बेडकरनगर, सुल्तानपुर, बस्ती, देवरिया) के 48 ब्लॉकों में यह योजना चल रही है। जिसमें अभी तक 59 असेम्बली एवं डिस्ट्रीब्यूशन केन्द्र स्थापित किये जा चुके हैं। इस योजना के अन्तर्गत 1500 महिलाओं को रोजगार मिल चुका है। अब तक की इन सभी जनपदों प्रगति इस प्रकार है। 08 लाख लैम्प असेम्बली होकर बच्चों को वितरण हो चुका है। तथा जो 100 रू0 बच्चों से लैम्प का लिया जा रहा है वह संकुल स्तरीय संघ खाते में डाला जाता है। अभी तक 08 करोड़ रूपये संकुल संघ के खाते में जमा हुआ है। तथा सभी महिलाओं को कार्य का पैसा देने के बाद सभी जनपदों की इस योजना से कमाई अभी तक संकुल संघ की 01 करोड़ रूपये हो चुकी है। तथा अगर लैम्प खराब होता तो 30 नवम्बर 2019 तक की उसकी वारण्टी है और उस लैम्प की मरम्मत की जायेगी। अभी तक प्रदेश में 100 रिपेयर सेन्टर खोले जा चुके हैं। पूरे उत्तर प्रदेश में यह योजना 29 जनपद के 115 ब्लॉकों में लागू की गयी है। यह योजना के अन्तर्गत 34 लाख स्टडी सौर ऊर्जा लैम्प क्लास 01 से 12 तक के बच्चों को वितरण किया। तथा इस योजना के अन्तर्गत प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास विभाग के पत्र आदेशानुसार जिले स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिले स्तरीय अधिकारियों की कमेटी बनायी गयी । उपायुक्त(स्वतः रोजगार) बृजमोहन अम्बेड ने कहा कि यह योजना हमारे जिले के समूह की महिलाओं के लिये व स्कूल जाने वाले बच्चों के लिये वरदान साबित होगी। तथा उन्होंने कहा कि जिले प्रशासन से भरपूर सहयोग आई0आई0टी0 मुम्बई की टीम को मिलेगा तथा सोलर लैम्प की अन्य जिलों के प्रगति से बहुत खुश हुये एवं उपायुक्त(स्वतः रोजगार) बृजमोहन अम्बेड ने कहा कि असेम्बली एवं डिस्ट्रीब्यूशन जहॉ भी स्थापित किया जाना वह जगह मॉडल बनायी जाये। तथा 03 ब्लॉक की विभिन्न गॉव से इच्छुक महिलाओं का कल इन्टरव्यू के माध्यम से चयन अच्छी तरह किया जाये। और योजना को सफल बनाने में सहयोग प्रदान करें। इस बैठक में उपस्थित जिला मिशन प्रबन्धक, तकसीर अहमद, मो0 अवेश अम्बिका प्रसाद कनौजिया, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी व जिला विद्यालय निरीक्षक, जिला विकास अधिकारी, परियोजना अधिकारी, खण्ड बेसिक शिक्षा अधिकारी, सहायक विकास अधिकारी (आई0एस0बी0), कलस्टर संगठन पदाधिकारी एवं ब्लॉक मिशन प्रबन्धक उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.